डिप्टी कलेक्टर कैसे बने (Deputy Collector Kaise Bane In Hindi)

Deputy Collector Kaise Bane, डिप्टी कलेक्टर की सैलरी, Deputy Collector Eligibility, Deputy Collector Kaun Hota Hai, Deputy Collector Exam Syllabus आदि के बारे में हिन्दी में पूरी जानकारी पढ़ें। 

डिप्टी कलेक्टर बनना हर किसी का सपना होता है और डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। यदि आपका सपना भी डिप्टी कलेक्टर बनना है और आप नहीं जानते हैं कि डिप्टी कलेक्टर कैसे बने तो चिंता मत कीजिए आज का आर्टिकल आपके लिए काफी मददगार साबित होगा।

आज के इस आर्टिकल में हम आपको Deputy Collector Kaise Bane इसके बारे में पूरी जानकारी प्रदान करेंगे और इसके साथ ही आपको Deputy Collector exam syllabus, Deputy Collector salary के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

और Deputy Collector exam pattern, डिप्टी कलेक्टर के लिए योग्यता आदि के बारे में भी बताएंगे, इसलिए हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें। 

Deputy Collector Kaise Bane, डिप्टी कलेक्टर की सैलरी, Deputy Collector Eligibility, Deputy Collector Kaun Hota Hai, Deputy Collector Exam Syllabus

डिप्टी कलेक्टर क्या होता है (Deputy Collector Kaun Hota Hai)

डिप्टी कलेक्टर किसी जिले के अन्तर्गत प्रशासनिक अधिकारी होता है, जो जिले में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और कई जरूरी कार्य करता है। 

डिप्टी कलेक्टर के ऊपर कई प्रशासनिक कार्यों का कार्यभार होता है इन्हे हिंदी में “उप डिविजनल मजिस्ट्रेट” कहते है और अंग्रेजी में “Deputy Collector” कहते है। 

डिप्टी कलेक्टर को ज्यादातर लोग मजिस्ट्रेट या डीसी कहते है, डिप्टी कलेक्टर अपने जिले के कलेक्टर के कई महत्वपूर्ण और प्रशासनिक कामों में मदद करता है और कलेक्टर के निर्देशों का पालन करता है। 

इसके अलावा डिप्टी कलेक्टर अपने क्षेत्र में कानून व्यवस्था, सरकारी कार्यों, जमीन विवादों आदि की व्यवस्था बनाए रखता है। 

डिप्टी कलेक्टर बहुत सम्मानित पोस्ट होती है और इसलिए इसे पाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है, तो आइए अब Deputy Collector Kaise Bante Hai के बारे में जानते है। 

डिप्टी कलेक्टर कैसे बने (Deputy Collector Kaise Bane In Hindi)

अगर आप भी डिप्टी कलेक्टर बनने का सपना देख रहे हैं, तो आपको बता दें कि डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए आज से ही मेहनत करना शुरू कर दे, तभी आपका सपना सच होगा, क्योंकि इसकी परीक्षा काफी मुश्किल होती है। 

डिप्टी कलेक्टर कैसे बने इसके बारे में जानने के लिए निम्नलिखित को ध्यान से पढे।

  • डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए सबसे पहले अपनी 12वीं कक्षा को अच्छे मार्क्स के साथ पास करें।
  • उसके बाद किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करें।
  • ग्रेजुएशन डिग्री करने के बाद आपको PCS Exam के लिए आवेदन कर देना चाहिए क्योंकि यही एग्जाम देकर आप डिप्टी कलेक्टर बन सकते हैं।
  • यह एग्जाम भी यूपीएससी एग्जाम की तरह ही आयोजित करवाए जाते हैं और हर साल इसके लिए भर्ती निकाली जाती है।
  • यह एग्जाम 3 चरणों में होता है जिसमें पहले प्रीलिम्स एग्जाम और फिर मेन एग्जाम तथा आखिर में आपका इंटरव्यू लिया जाता है।
  • अगर आप इन तीनों चरणों को पास कर लेते हैं, तो आप एक डिप्टी कलेक्टर बन जाएंगे।

आपने अभी डिप्टी कलेक्टर कैसे बने, इसके बारे में जानना है, तो अब आपको डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए योग्यता, डिप्टी कलेक्टर एग्जाम सिलेबस, डिप्टी कलेक्टर एज लिमिट, डिप्टी कलेक्टर सैलरी आदि के बारे में बताएंगे।

डिप्टी कलेक्टर शैक्षणिक योग्यता (Deputy Collector Education Qualification In Hindi)

डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए आपको ज्यादा पढ़ाई करनी पड़ती है और दिन-रात डिप्टी कलेक्टर बनने की तैयारी करनी पड़ती है।

तथा कई लोगों का सवाल रहता है कि डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए क्या करना पड़ता है तो आपको बता दें कि डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए निम्नलिखित योग्यता होना जरूरी है।

  • डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए आपको ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करनी होगी।
  • आप किसी भी विषय में ग्रेजुएशन कर सकते हैं यह आपकी रुचि पर निर्भर करता है।
  • डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए आप बीएससी, बीकॉम या बीए में से कोई भी डिग्री कर सकते है।
  • ग्रेजुएशन में कम से कम 55% मार्क्स लाने की कोशिश करे इससे आपको आगे एग्जाम में मदद मिलेगी।
  • यह सब शैक्षिक योग्यता होने पर आप भी डिप्टी कलेक्टर एग्जाम की तैयारी करके डिप्टी कलेक्टर बन सकते है।

डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए कितनी उम्र चाहिए (Deputy Collector Age Limit)

डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता होने के साथ आपकी सही उम्र भी होना जरूरी है, तभी आप इस एग्जाम के लिए आवेदन कर सकते है और डिप्टी कलेक्टर बन सकते है। 

तो आइए डिप्टी कलेक्टर आयु सीमा के बारे में बात करते है।

  • डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए आपको कम से कम उम्र 21 साल और अधिक से अधिक 32 साल होती है तथा कई राज्यों में 40 साल अधिकतम है।
  • OBC, SC, ST आदि आरक्षित वर्ग वाले उम्मीदवारों को उम्र में छूट भी मिलती है।
  • OBC वर्ग वाले उम्मीदवारों को इसमें 3 साल तक की छूट मिलती है।
  • SC वर्ग वाले उम्मीदवारों को 5 साल की छूट मिलती है।
  • ST वर्ग वाले उम्मीदवारों को भी 5 साल की छूट मिलती है।
  • सरकारी कर्मचारियों, खिलाड़ियों आदि को भी आयु सीमा में छूट मिलती हैं।

डिप्टी कलेक्टर की तैयारी कैसे करे (How To Prepare For Deputy Collector Exam)

डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी होगी क्योंकि यह परीक्षा आसान नहीं होती है और अगर आप डिप्टी कलेक्टर एग्जाम की तैयारी करना चाहते है, तो निम्नलिखित को ध्यान से पढ़ें।

#1: अपने ग्रेजुएशन कंप्लीट करें

डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए योग्यता में सबसे जरूरी आपका ग्रेजुएट होना है, अगर आपने ग्रेजुएशन नहीं की है, तो आप डिप्टी कलेक्टर के एग्जाम नहीं दे पाएंगे इसलिए किसी भी विषय में ग्रेजुएशन की पढ़ाई करें। 

आप साइंस, कॉमर्स और आर्ट्स आदि विषयों में ग्रेजुएशन डिग्री कर सकते हैं।

#2: अब पीसीएस एग्जाम के लिए आवेदन करें

जब आपकी ग्रेजुएशन कंप्लीट हो जाए तो आपको पीसीएस एग्जाम के लिए आवेदन करना चाहिए क्योंकि यही एग्जाम देकर लोग डिप्टी कलेक्टर बन सकते हैं। इस एग्जाम के लिए आवेदन करने के बाद आपको एग्जाम की तैयारी के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी।

#3: सिलेबस की अच्छे से पढ़ाई करें

डिप्टी कलेक्टर एग्जाम सिलेबस की अच्छे से पढ़ाई करें और इसके लिए आप कई किताबों, ऑनलाइन क्लासेज आदि की सहायता ले सकते हैं। डिप्टी कलेक्टर एग्जाम में पूछे जाने वाले सभी प्रश्न इसी सिलेबस से पूछे जाते हैं इसलिए सिलेबस को अच्छे तरीके से पढ़ें। 

अगर आप इस सिलेबस को अच्छे से पढ़ लेते हैं, तो आपको एग्जाम में ज्यादा कठिनाई नहीं आएगी और आपकी तैयारी बेहतर बन जाएगी।

आप इस परीक्षा की पढ़ाई के लिए नोट्स बना सकते हैं, क्योंकि नोट्स बनाने से आपको सिलेबस समझ में भी आ जाएगा और आप इसका रिवीजन भी जल्दी कर पाएंगे। 

डिप्टी कलेक्टर एग्जाम के लिए ऑनलाइन क्लासेज या ऑफलाइन क्लासेज ज्वाइन कर सकते हैं। इस परीक्षा की तैयारी के लिए यूट्यूब पर वीडियो देख सकते हैं। 

करंट अफेयर्स आदि की जानकारी के लिए रोज अखबार पढ़ें और समाचार देखते रहे या आप कोई किताब खरीद सकते हैं।

#4: कोचिंग ज्वाइन करें

यदि आपको इस परीक्षा की अच्छे से तैयारी करनी है और सिलेबस को बढ़िया तरीके से समझना है, तो आप इसके लिए कोचिंग कर सकते हैं। कोचिंग का फायदा यह है कि आपको सिलेबस जल्दी और अच्छे से समझ में आ जाएगा तथा उसी कोचिंग क्लासेज को चुने जिसका पिछला परिणाम अच्छा रहा हो। 

कोचिंग में पढ़ाई करने के अलावा घर पर भी आप पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान देवें, फालतू के कामों में अपना समय ज्यादा बर्बाद ना करें और अपने सिलेबस को अच्छे से समझने के लिए इस समय का प्रयोग करें।

#5: डिप्टी कलेक्टर एग्जाम क्लियर करें

डिप्टी कलेक्टर का एग्जाम क्लियर करने के बाद ही आपको डिप्टी कलेक्टर की पोस्ट प्राप्त होगी। डिप्टी कलेक्टर का एग्जाम तीन चरणों में कंप्लीट होता है।

  • सबसे पहले डिप्टी कलेक्टर प्रीलिम्स एग्जाम यानी प्रारंभिक परीक्षा होती है, जिसे आपको पास करना होता है। 
  • यह परीक्षा क्लियर करने के बाद ही आप इसका मेन एग्जाम दे सकते हैं।
  • डिप्टी कलेक्टर मेन एग्जाम में अच्छे से अच्छे अंक लाने की कोशिश करें क्योंकि यह डिप्टी कलेक्टर की मुख्य परीक्षा होती है।
  • दोनों परीक्षाओं में पास होने के बाद आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है और डिप्टी कलेक्टर इंटरव्यू में सिलेबस से जुड़े सवाल, सामान्य ज्ञान के सवाल आदि पूछे जाते हैं तथा आपके पर्सनलटी भी देखी जाती है। इसके बाद आप डिप्टी कलेक्टर बन जाएंगे और आपका सपना सच हो जाएगा।

बेस्ट एजुकेशनल ऐप्स:

डिप्टी कलेक्टर एग्जाम सिलेबस (Deputy Collector Exam Syllabus)

डिप्टी कलेक्टर एग्जाम सिलेबस में कई सब्जेक्ट होते हैं और इन सब्जेक्ट को अच्छे से पढ़ना बहुत आवश्यक होता है तथा डिप्टी कलेक्टर एग्जाम सिलेबस कुछ इस प्रकार होता है।

Deputy Collector Prelims Exam Syllabus

  • General Studies
  • General Aptitude

Deputy Collector Mains Exam Syllabus

  • General Hindi
  • General Studies-1
  • General Studies-2 
  • General Studies-3
  • General Studies-4
  • Essay
  • Optional Subject-1
  • Optional Subject-2

डिप्टी कलेक्टर एग्जाम पैटर्न (Deputy Collector Exam Pattern In Hindi)

डिप्टी कलेक्टर एग्जाम दो चरणों में होता है जिसमें पहले प्रारंभिक परीक्षा होती है तथा बाद में मुख्य परीक्षा होती है। डिप्टी कलेक्टर एग्जाम पैटर्न कुछ इस प्रकार होता है।

  • डिप्टी कलेक्टर प्रारंभिक परीक्षा में 2 पेपर होते हैं और यह 200-200 अंको के होते हैं यानी कुल अंकों का योग 400 होता है। हर पेपर के प्रश्नों के जवाब देने के लिए आपके पास 2 घंटे का समय होता है।
  • डिप्टी कलेक्टर मुख्य परीक्षा में कुल 8 पेपर होते है और हर एक पेपर के अलग अंक निर्धारित रहते है लेकिन मुख्य परीक्षा के सभी पेपर के अंकों का योग 1500 होता है।
  • इस दोनों एग्जाम के बाद आपका इंटरव्यू यानी साक्षात्कार लिया जाता है और इंटरव्यू में ज्यादा अंक लाने की कोशिश करनी चाहिए फिर आपकी रैंक के आधार पर आपको पोस्ट प्रदान की जाती है।

डिप्टी कलेक्टर पोस्ट (Deputy Collector Post Details)

डिप्टी कलेक्टर एग्जाम पास करने के बाद एग्जाम में आने वाली रैंक के आधार पर जॉब पोस्ट दी जाती है।

यानी आप डिप्टी कलेक्टर एग्जाम देकर निम्नलिखित पोस्ट भी पा सकते है।

  • Deputy Collector
  • District Supply Officer
  • Revenue Commissioner Office President
  • Chief Minister Personal Secretary
  • Cabinet Minister Personal Secretary
  • Deputy District Election Officer
  • Deputy Secretary in The Ministry
  • Deputy District Election Officer
  • Assistant Commissioner
  • Returning Officer During Election
  • Assistant Election Officer During Any Election

डिप्टी कलेक्टर की सैलरी कितनी होती है?

डिप्टी कलेक्टर सैलरी के बारे में बताए; तो डिप्टी कलेक्टर को अच्छी खासी सैलरी मिलती है और इसी के साथ कई सरकारी सुविधाएं और सरकारी योजनाओं का लाभ भी मिलता है। डिप्टी कलेक्टर की एवरेज सैलेरी के बारे में बात करें तो 55 हजार से 65 हजार रुपए तक मिलते हैं और धीरे-धीरे सैलरी समय के साथ बढाई भी जाती है।

Deputy Collector Salary के अलावा उनको कई सुविधाएं और कई प्रकार के भत्ते दिए जाते हैं। 

डिप्टी कलेक्टर के लिए बिजली बिल, पानी बिल, टेलीफोन बिल आदि फ्री होते हैं और रहने के लिए अच्छा घर भी दिया जाता है। डिप्टी कलेक्टर की सुरक्षा के लिए बॉडीगार्ड, सरकारी वाहन आदि की भी व्यवस्था होती है।

डिप्टी कलेक्टर का क्या काम होता है (Deputy Collector Ka Kya Kam Hota Hai)

डिप्टी कलेक्टर का पद मिलने पर उन्हें कई कार्यभार संभालने पड़ते हैं और डिप्टी कलेक्टर के कार्य निम्नलिखित होते है।

  • सैनिक कल्याण के कार्य डिप्टी कलेक्टर द्वारा किए जाते हैं।
  • किसी भी तरह के लाइसेंस का नवीनीकरण करना हो यानी रिन्यू करवाना हो तो यह कार्य भी डिप्टी कलेक्टर के अंतर्गत आता है।
  • विधानसभा चुनाव, लोकसभा चुनाव आदि में निर्वाचन अधिकारी की सहायता करना।
  • अपने क्षेत्र में सही कानून व्यवस्था बनाए रखना और शांति व्यवस्था बनाए रखना भी डिप्टी कलेक्टर के काम होते हैं।
  • इसके अलावा विभाग के कई अन्य कार्य होते हैं जो डिप्टी कलेक्टर के अंतर्गत किए जाते हैं।

FAQs – Deputy Collector Kaise Bane?

#1: DC बनने के लिए क्या पढ़ना जरूरी होता है?

डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए सबसे पहले आपको किसी विषय में ग्रेजुएशन कंप्लीट करनी होगी तभी आप डिप्टी कलेक्टर एग्जाम के लिए आवेदन कर पाएंगे और उसके बाद डिप्टी कलेक्टर एग्जाम सिलेबस पढ़कर आप डिप्टी कलेक्टर बन सकते हैं।

#2: डिप्टी कलेक्टर का दूसरा नाम क्या है?

डिप्टी कलेक्टर को छोटे रूप में DC भी कहते हैं और उप डिविजनल मजिस्ट्रेट भी कहते हैं।

#3: डिप्टी कलेक्टर का वेतन कितना होता है?

डिप्टी कलेक्टर को हर महीने 55 हजार से 65 हजार रुपए या अधिक सैलरी मिलती है और समय के साथ सैलरी में भी बढ़ोतरी होती है।

निष्कर्ष – डिप्टी कलेक्टर कैसे बने (How To Become Deputy Collector)

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको डिप्टी कलेक्टर कैसे बनें? इसके बारे में हिंदी में विस्तार से समझाया है।

इसके अलावा हमने आपको डिप्टी कलेक्टर सैलरी, डिप्टी कलेक्टर के काम, डिप्टी कलेक्टर की तैयारी कैसे करें, डिप्टी कलेक्टर कौन होता है, इन सभी के बारे में भी बताया है।

आज के इस आर्टिकल में आपको Deputy Collector Kaise Bane Full Details In Hindi मिली होगी और आपको यह आर्टिकल काफी पसंद आया होगा। 

इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिए और इससे संबंधित कोई सवाल हो तो हमसे जरूर पूछें।

Leave a Comment